19 June, 2017

सुख-दुख | ब्लॉग नई सोच


दुख एक फर्ज है,
फर्ज तो है एहसान नहीं।
फर्ज है हमारे सर पर,
कोई भिक्षा या दान नहीं।

दुख सहना किस्मत के खातिर,
कुछ सुख आता पर दुख आना फिर।
दुख सहना किस्मत के खातिर...

दुख ही तो है सच्चा साथी
सुख तो अल्प समय को आता है।
मानव जब तन्हा  रहता है,
दुख ही तो साथ निभाता है।

फिर दुख से यूँ घबराना क्या?
सुख- दुख में भेद  बनाना क्या?

<<< पूरी रचना पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें >>>



सुधा देवरानी जी 2016 से ब्लॉगिग कर रहें है और अपनी कविताओं को नई सोच ब्लॉग के माध्यम से पाठको के बीच रख रहीं है। ब्लॉगर सुधा जी से ई-मेल sdevrani16@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है। 


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ


Blog this Week