27 March, 2017

किसान क्यों बेगाना है? | सुनील मोगा


जी मैं किसान हूँ क्योंकि मेरी व्यथा न हुक्मरानों के वादों में समा पाती है न सत्ता के दलालों की ठेकेदारी का हिस्सा बन पाती है। कभी धर्म के पाखंडों की आड़ में लूट जाता हूँ तो कभी पटवारी-ग्रामसेवक रूपी जनसेवकों की अंतिम सीढ़ियों पर लुढ़ककर अपना सर फोड़ बैठता हूँ। क्या करूँ! ईमानदारी का चोला व नैतिकता की जंजीरे अकेले ही ढोने को मजबूर हूँ। जब आपकी चमचमाती व्यवस्था के आंगन में, आपके फैलाये जाल के नशे में मेरा भविष्य ही लड़खड़ाते कदमों से मुझे हांकने लगे तो मेरे पास कहने को बचता क्या है? न मेरी दिल की पीड़ा लफ्जों तक आ पाती है न मेरा सपना भविष्य का रूपक तय कर पाता है! एक किसान की जलालत भरी जिंदगी की यही हकीकत है।
मैं आप लोगों से नाराज नहीं हूँ। मेरा गुस्सा व मेरा दर्द आप लोगों की करतूतों की पैदाइश नहीं है। मेरी बर्बादी के हिस्से में आपका योगदान नगण्य है । मैं जानता हूँ कि बाबा साहेब ने जब संविधान रूपी दुनिया का महाग्रंथ हमारे हाथों में सौंपा था उस समय हम लोग राजपथ की खुली सड़कों पर झूम रहे थे। वोट क्लब की हरियाली में लिपटे नीले पानी की लहरों में खो गए थे। हमने इतना खुलापन कभी देखा नहीं था। हम गाँवों के किनारे झाड़ियों की धुंधलाती किरणों के बीच गौधूली में मशगूल हो गए थे। हम खेतों की मेड़ पर बैठकर हलों की लकीरों को भाग्य की लकीरें समझ बैठे थे। हम शहरों की सीमाओं पर ऊँची-ऊँची चिमनियों से निकलते धुंए को अखंड ज्योत की ज्वाला मान बैठे थे!हम चमचमाती गाड़ियों की धुनों को अपना सौभाग्य समझने लगे थे। ऊँचे-ऊँचे मचानों से आपके तेजतर्रार नारों व वादों को हकीकत समझने की भूल कर बैठे थे।
मैं किसान हूँ क्योंकि मेरे आज के हालात का जिम्मेदार मैं खुद ही हूँ। आज मेरे हालात पर आपकी कपटी मुस्कान का लहजा भी मैं भली-भांति समझता हूँ क्योंकि खेतों को खोदकर अन्न उपजाने की प्रक्रिया ने मुझे इतनी बुद्धि व तर्क क्षमता तो दे ही दी है, मुझे पता है कि गेंहू को आपकी थाली तक पहुंचाने की प्रक्रिया में ठंडी सर्द हवाओं में मुझे मेरी हड्डियां ग्लानी पड़ती है।

<<< पूरा लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें >>>



पेशे से किसान राजस्थान के रहने वाले सुनील मोगा जी सन् 2013 से ब्लॉगिंग कर रहे है। इसके अलावा पत्रकारिता से भी जुड़े हुए है और अपने शौकिया लेखन को ब्लॉग के माध्यम से पाठको तक पहुंचा रहे है। ब्लॉगर से ई-मेल sunilbkn.meet@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है। 


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ


Blog this Week