12 November, 2016

सहीं मायने में पढ़ा-लिख़ा कौन? - आपकी सहेली ब्लॉग से


सामान्यत: हमारी यही धारणा रहती है कि जो व्यक्ति कम से कम ग्रेजुएट या पोस्ट ग्रेजुएट हो वह पढ़ा-लिख़ा होता है। परंतु हाल ही में हुई दो-तीन घटनाओं ने मुझे यह सोचने पर विवश कर दिया कि सहीं मायने में पढ़ा-लिख़ा कौन है? मुझे लगता है कि “डिग्री” पढ़ा-लिख़ा होने का एकमात्र आधार नहीं है। कोई व्यक्ति अपने कार्य को कितनी खुबसुरती से अंजाम देता है, उसकी कार्यकुशलता ही सही मायने में उसके पढ़ा-लिख़ा होने का सबूत बन जाती है।

घटना - एक

मेरी कामवाली बाई 7-8 घरों में बर्तन-कपड़े धोने का काम करती है। मेरे यहां कपड़े धोने की साबुन जब भी खत्म हो जाती है, वो घर में घुसते से ही साबुन बराबर मांग लेती है ताकि कपड़े धोने बाथरुम तक जाने पर साबून मांगने के लिए वापस न आना पड़े। मैं कई बार अचंभित हो जाती हूं कि वो इतने घरों में काम करती है, तो इतने सारें घरों का और साथ ही में खुद के घर का भी...कौन सा सामान खत्म हो गया है, ये सब बातें कैसे याद रख पाती है? उसने 1000 रुपए में सेकंड हॅंड मोबाईल खरिदा था। दुकानदार से ही उसमें हिंदी भाषा का फ़ॉन्ट डलवा लिया और वो खुद ही नंबर आदि सेव करती है। सिर्फ चौथी पास कामवाली बाई को नंबर सेव करते देखकर मैं अचंभीत रह जाती हूं।
दूसरी तरफ, मेरी एक परिचिता पोस्ट ग्रेजुएट है। मैने कई बार नोट किया कि उसके घर का रोजमर्रा का सामान खत्म हो जाता है और उसे सामान खरीद कर लाने की याद ही नहीं रहती। जब उसकी कामवाली बाई साबून मांगती है, तब उसे ही बाजार भेजकर वो साबून बुलवाती है! उस के पास 25000 रुपए का मोबाईल है। लेकिन वो इस फोन का उपयोग सिर्फ कॉल लगाने और रिसीव करने ही करती है। रिश्तेदारों के नंबर भी उसके पतिदेव या उसके बच्चे मोबाइल में फिड करके देते है। मैने उससे पुछा कि आप क्यों नहीं सीखती मोबाईल के बारें में? तो वो कहती है, अब क्या करना है सीख कर, आधी जिंदगी तो बीत गई!!

ऐसे में मैं सोचने पर विवश हो जाती हूं कि पढ़ी-लिख़ी कौन है कामवाली बाई या मेरी यह परिचिता?


<<< पूरा लेख पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें >>>



ज्योति देहलीवाल जी एक गृहणी है और महाराष्ट्र में निवारसरत है। आप 2014 से ब्लॉग लिख रही है। उनके ब्लॉग पर विभिन्न विषयों से संबधित रोचक जानकारियां और सामाजिक व घरेलू टिप्स आदि ढ़ेरो जानकारीवर्द्धक लेखो की काफी लम्बी श्रृखला है। ज्योति जी से ई-मेल jyotidehliwal708@gmail.com पर स्म्पर्क किया जा सकता है और उन्हे FACEBOOK पर फालो कर सकते है।


यदि आप भी अपनी ब्लॉग पोस्ट को अधिक से अधिक पाठकों तक पहुंचाना चाहते है। तो अपने ब्लॉग की नई पोस्ट की जानकारी या सूचना हमें दें। अपनी ब्लॉग की पोस्ट शेयर करने के लिए अपने ब्लॉग पोस्ट का यूआरएल और अपने बारे में संक्षिप्त जानकारी एवं फोटो सहित हमें - iblogger.in@gmail.com पर ई-मेल करें।

No comments:
Write टिप्पणियाँ


Blog this Week