17 November, 2015

तुम स्नेह भूले तो क्या


तुम स्नेह भूले तो क्या 
एक दीप जलाया मैंने 
प्यार भारी सौगात का 
झाड़ा पोंछा कलुष मन का 
कोई भ्रम न पलने दिया 
मान का मनुहार का 
फिर किया स्वागत हृदय से
आने वाले पर्व का 
नेह से थाली सजाई 
हिलमिल सबने दूज मनाई 
पर एक कसक मन में रही 
तुम्हारी यादें भूल न पाई
हर वर्ष दिवाली आती है 
बीते कल में ले जाती है 

No comments:
Write टिप्पणियाँ


Blog this Week